Tuesday, February 7, 2023
Homeराष्‍ट्रीयWheat New Rate: गेहू की कीमतों में आई जबरदस्त उछाल,निर्यात में बढ़ोत्तरी...

Wheat New Rate: गेहू की कीमतों में आई जबरदस्त उछाल,निर्यात में बढ़ोत्तरी से बढ़ रहे भाव,जानिए कीमत

Wheat New Rate: बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि प्रमुख गेहूं उत्पादक देशों ऑस्ट्रेलिया, यूरोपीय संघ और यूक्रेन में कम उत्पादन के कारण विदेशी बाजार में गेहूं की आपूर्ति में कमी आएगी। कम उत्पादन और उच्च निर्यात के कारण भारत में गेहूं की कीमतें एमएसपी से ऊपर रहने की उम्मीद है।

Wheat New Rate: गेहू की कीमतों में आई जबरदस्त उछाल,निर्यात में बढ़ोत्तरी से बढ़ रहे भाव,जानिए लेटेस्ट कीमत

निर्यात प्रतिबंध के बावजूद, देश की सभी मंडियों में गेहूं की कीमत न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) से ऊपर मँडरा रही है। क्योंकि इस साल रूस-यूक्रेनी युद्ध के कारण रिकॉर्ड निर्यात हुआ था। गर्मी में वृद्धि के परिणामस्वरूप, उत्पादन में गिरावट का अनुमान लगाया गया था। इन दोनों वजहों से इस बार गेहूं के दामों में खासी तेजी देखने को मिल रही है। जबकि भारतीय बाजार में गेहूं की कीमत आमतौर पर एमएसपी से कम थी। अंतरराष्ट्रीय कारणों और उत्पादन में कमी के कारण आपके घर में पड़ा गेहूं इस साल सोने जैसा हो गया है। जानकारों का कहना है कि इस साल गेहूं की कीमत 2,500 रुपये प्रति क्विंटल से कम नहीं होगी.

राजस्थान के अजमेर स्थित ब्यावर मंडी में गेहूं का भाव 16 मई को अधिकतम 2,900 रुपये प्रति क्विंटल पर पहुंच गया। जबकि औसत भाव 2650 रुपये और न्यूनतम दर 2400 रुपये रहा। यहां चित्तौड़गढ़ जिले में स्थित बेगू मंडी में न्यूनतम भाव 2,180 रुपये, अधिकतम 2300 रुपये और औसत भाव 2200 रुपये प्रति क्विंटल रहा। वहीं श्रीगंगानगर मंडी में अधिकतम भाव 2600 रुपये और औसत भाव 2285 रुपये प्रति क्विंटल रहा। जबकि सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य 2015 रुपये तय किया है। ये मूल्य स्थितियां इस बात का संकेत देती हैं कि इस साल गेहूं किसानों की आय में वृद्धि होगी।

क्या कहते हैं बाजार के जानकार?
ओरिगो ई-मंडी के वरिष्ठ प्रबंधक (कमोडिटी रिसर्च) इंद्रजीत पॉल के अनुसार, सोमवार (16 मई) को सरकार के निर्यात प्रतिबंध के बाद घरेलू बाजार में गेहूं की कीमतों में लगभग 3 प्रतिशत की गिरावट देखी गई। व्यापारियों द्वारा स्टॉक निकासी के कारण अल्पावधि में मूल्य सुधार की संभावना है। शॉर्ट टर्म में गेहूं की कीमतों में 100 रुपये से 150 रुपये तक की गिरावट हो सकती है। हालांकि गेहूं की कीमतों में गिरावट ज्यादा दिनों तक नहीं रहेगी क्योंकि इस साल सरकार के साथ गेहूं के उत्पादन में पिछले साल की तुलना में 42 फीसदी की गिरावट आने का अनुमान है। .

पावेल का कहना है कि इसी वजह से फ्री मार्केट में गेहूं की मांग बनी रहेगी। लंबे समय तक दिसंबर 2022 तक गेहूं का भाव 2,500-2,600 रुपये प्रति क्विंटल के स्तर को छू सकता है। मुख्य गेहूं उत्पादक देशों ऑस्ट्रेलिया, यूरोपीय संघ और यूक्रेन में कम उत्पादन के कारण विदेशी बाजार में गेहूं की कमी होगी।

Wheat New Rate: गेहू की कीमतों में आई जबरदस्त उछाल,निर्यात में बढ़ोत्तरी से बढ़ रहे भाव,जानिए लेटेस्ट कीमत

कितना हुआ निर्यात (गेहूं निर्यात)
केंद्र सरकार के मुताबिक 2019-20 में गेहूं का निर्यात महज 2.17 लाख टन था।
2020-21 में गेहूं का निर्यात 21.55 मिलियन टन था, जबकि 2021-22 में 72.15 मिलियन टन।
अकेले अप्रैल 2022 में 40 मिलियन टन के समझौते के साथ लगभग 11 मिलियन मीट्रिक टन निर्यात किया गया था।
भारत ने बढ़ती वैश्विक मांग के बीच 2022-23 में एक करोड़ टन गेहूं के निर्यात का लक्ष्य रखा है।

राजस्व पूर्वानुमान और खरीद लक्ष्य घट

इस साल उत्तर पश्चिम भारत में लू का असर गेहूं की फसल पर पड़ा है। इसलिए सरकार ने गेहूं के उत्पादन में गिरावट का अनुमान लगाया है। सरकार ने पहले जून में समाप्त होने वाले विपणन वर्ष के लिए 111.32 मिलियन टन गेहूं उत्पादन का अनुमान लगाया था। अब इसे घटाकर 105 मिलियन टन कर दिया गया है।

https://anokhiaawaj.in/omg-this-is-the-worlds-most-expensive-whiskeycc/
निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments