UP Election: एमपी के नेता जायँगे प्रचार में,लिस्ट हो रही तैयार

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

उत्तर प्रदेश (UP Election 2022) सहित देश के पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Elections) को लेकर तैयारियां युद्ध स्तर पर हैं. देश के सबसे बड़े सूबे में दोबारा सत्ता हासिल करने के लिए बीजेपी शासित सभी राज्यों ने कमर कस ली है. इसमें सबसे आगे दिखाई दे रही है एमपी बीजपी (MP BJP) की सियासी फौज. मध्य प्रदेश बीजेपी के लगभग सभी धुरंधर नेता और कार्यकर्ता उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मोर्चा संभाल चुके हैं. एमपी के कई दिग्गज नेता यूपी विधानसभा चुनाव में बड़ी जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. अब मध्य प्रदेश से लड़ाकू नेताओं की एक और टुकड़ी यूपी भेजी जा रही है. 

उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव आयोग ने 7 चरणों में चुनाव कराने की घोषणा कर दी है. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए मतदान 10 फरवरी, 14 फरवरी, 20 फरवरी, 23 फरवरी, 27 फरवरी, 3 मार्च और 7 मार्च को होंगे. इसके बाद पूरे प्रदेश में मतगणना 10 मार्च को होगी.


उत्तर प्रदेश चुनाव में MP के नेताओं की धमक देखने को मिल रही है. कई दिग्गज नेताओं के बाद अब बीजेपी और कांग्रेस ने मिलाकर अपने और भी अनुभवी नेताओं को उत्तर प्रदेश भेजने की तैयारी कर ली है. इसमें पूर्व जिला अध्यक्ष, पूर्व पदाधिकारियों,महिला पदाधिकरियों सहित BJP ने लगभग 250 नेता उत्तर प्रदेश भेजे जा रहे हैं. पार्टी के विधयाक, सांसद और मंत्रियों की भी तैनाती की जा रही है. 


बीजेपी ही नहीं कांग्रेस संगठन ने भी MP के नेताओं की ड्यूटी उत्तर प्रदेश के चुनावी दंगल में लगा दी है. उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए पार्टी आलाकमान ने राज्यसभा सांसद राजमणि पटेल और पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल को पहुंचने के निर्दश दे दिए हैं. 


पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में मध्य प्रदेश को हाल ही में एक नई जिम्मेदारी मिली थी. एमपी के IAS और IPS भी चुनाव में मोर्चा सम्भालने के लिए तैयार कर दिए गए हैं. निर्वाचन आयोग ने पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव में मध्यप्रदेश के 45 आई.ए.एस. अधिकारियों को सामान्य पर्यवेक्षक नियुक्त किया है. 15 आई.पी.एस. अधिकारियों को पुलिस पर्यवेक्षक और 17 आई.ए.एस. अधिकारियों की व्यय पर्यवेक्षक के रूप में हुई नियुक्ति हुई है.

वर्चुअल ट्रेनिंग 
इसके लिए सभी अधिकारियों को वर्चुअल ट्रेनिंग भी दे दी गई. ट्रेनिंग में बताया गया कि चुनाव को पूरी तरह से स्वतंत्र, निष्पक्ष, पारदर्शी संचालन को सुनिश्चित करने के लिए पर्यवेक्षकों को तीखी नजर रखनी है. सुरक्षित चुनाव कराने में भी की अहम भूमिका रहेगी. चुनाव में आदर्श आचार संहिता में किसी भी तरह की चूक ना हो इसके लिए सतर्क रहने के निर्देश हैं. 

यह भी पढ़े-

Mahindra कई गाड़ियों पर दे रहा 81 हजार रु तक का छूट,31 से पहले उठाये लाभ

Scholarship For Girls: ‘गांव की बेटी’ योजना के लिए आवेदन देने की अंतिम तारीख करीब


खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *