कागज पर हुआ शौचालय निर्माण, सरपंच-सचिव के खाते से निकाली पूरी रकम

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

तेंदूखेड़ा। चार वर्ष पूर्व जिले के साथ तेंदूखेड़ा ब्लाक की सभी गांव पंचायतों को ओडीएफ घोषित कर दिया था लेकिन उस समय गांव पंचायतों के कई गांव ऐसे भी थे जिनमें शौचालय अधूरे या नही थे उनके लिए लगातार गांव पंचायतें शौचालय निर्माण के लिए राशि तो निकल रही हैं लेकिन शौचालय नही दिख रहे और अब हमारे पास एक ऐसा गांव का मामला आया है जिसमें गांव के लोगों की माने तो उनके पूरे गांव में पंचायत ने शौचालय निर्माण ही नही कराये और पूरा गांव सड़क किनारे शौचक्रिया के लिए मजबूर है।

कछार गांव का हैं मामला

हम जिस गांव की बात कर रहे है वह तेंदूखेड़ा जनपद की गांव पचायत बांदीपुरा अंतर्गत आने वाले कछार गांव का हैं यहां पिछले 7 वर्षो में कोई शौचालय का निर्माण नही हुआ हैं जिस गांव के लोग शौच के लिए मुख्य मार्ग या सुरगंवा गांव के ही शौच करते है।

गांव के लोगों से जब बात की तो उनका कहना हैं कि वह गरीब हैं और उनके गांव में कभी शौचालय का निर्माण हुआ ही नहीं है। गांव के लोगों ने यह तक बताया की गांव में एक-दो घरों में शौचालय बनी हुई है तो वह मकान मालिक ने खुद के पैसों में बनवाए हैं शासन से उन्हें कोई सहायता नहीं मिली है।

अन्य निर्माण कार्यो के साथ गांव पंचायतों में शौचालय निर्माण के लिए तेंदूखेड़ा जनपद की अधिकांश गांव पंचायतों में बनी निर्माण विकास समिति से लाखों की राशि निकाली गई जिसमें उस राशि से व्यक्तिगत शौचालयो का निर्माण कराया जाना था किंतु राशि लगातार निकलती गई किन्तु उस राशि से जो शौचालय निर्माण होने थे वह मौके पर नही हैं यदि इसकी निष्पक्ष रूप से जांच होती हैं तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।

तेंदूखेड़ा जनपद की 62 गांव पंचायतों में वर्ष 2018-19 में खुले से शौच मुक्त करने गांवो में बड़ी मात्रा में बजट आया था किंतु यह राशि निर्माण विकास समिति के माध्यम से निकली थी जो सीधे सरपंच ओर सचिव के खातों में गई हैं और उस राशि से निर्माण होने वाले शौचालय बने ही नही और पूर्व में दूसरी गांव पंचायतों में निर्माण हुए हैं वह अधूरे ओर खंडरों की भांति आज भी पड़े है।

गांव पंचायत बांदीपुरा के गांव कछार में शौचालय निर्माण न होने के साथ बांदीपुरा सहित अन्य गांव पंचायतों में निर्माण विकास समिति से निकली राशि के बाद भी शौचालय निर्माण नही हुए जब मामले को लेकर तेंदूखेड़ा जनपद सीईओ से जानकारी लेने संपर्क किया तो उनके द्वारा अपना मोबाईल फोन रिसीव नही किया गया।

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *