योगी सरकार पर लगाया दलितों पिछड़ों नव युवकों की उपेक्षा का आरोप क्या यह सत्य है?

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

अनोखी आवाज सिंगरौली :योगी सरकार से इस्तीफा देने के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य इस तरह की बेटू क बातें कर रहे हैं क्या ऐसे नेता चुनाव आने पर ही नौजवानों दलितों व पिछड़ों की चिंता करते हैं क्या यह उचित समय है सरकार में अपना योगदान अच्छी तरह से ना देने वाले नेता हमेशा पाला बदलने के बाद इस तरह की गलत मानसिकता के साथ जनता क्यों बताना चाहते हैं कि वह सही है वह जो फैसला लेते हैं वही अच्छी बात है क्योंकि इन्हें सिर्फ अपनी कुर्सी अपने लोग अपनी राजनीति से ऊपर उठकर जनता के बारे में कभी सोचते हुए कोई नहीं देखता इस तरह की राजनीतिक लोगों को क्या अपना भविष्य उज्जवल दिखाई देता है?

इस तरह से मौर्या जी अपनी ओछी राजनीति को चमकाने में लगे हुए हैं क्या यह जनता को स्वीकार्य होगा या फिर जनता इसका पूर्ण रूप से जवाब देगी पाला बदलने वाले नेता चाहे देश में कहीं भी हो अपनी साख बचाने में ही उनका पूरा राजनैतिक कैरियर समाप्त हो जाता है क्योंकि उनका मन सिर्फ अपने सुख सत्ता के लिए ही के लिए ही रह जाता है।

अखिलेश यादव का कहना है कि सामाजिक न्याय और समता-समानता की लड़ाई लड़ने वाले लोकप्रिय नेता स्वामी प्रसाद मौर्या जी एवं उनके साथ आने वाले अन्य सभी नेताओं, कार्यकर्ताओं और समर्थकों का सपा में ससम्मान हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन! सामाजिक न्याय का इंक़लाब होगा।

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

बहुचर्चित खबरें