सिंगरौली- चितरंगी टीआई की बढ़ सकती है मुश्किलें, एसपी ने दिए जांच के आदेश

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

फरियादी ने एसपी को रो-रो कर सुनाई अपनी व्यथा,मामला चितरंगी थाने के अवैध शराब बिक्री से जुड़ा हुआ।

अनोखी आवाज़ सिंगरौली। चितरंगी थाना प्रभारी डीएन राज की लगातार मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं क्योंकि पुलिस अधीक्षक सिंगरौली वीरेन्द्र सिंह ने मामले को गंभीरता से लेते हुए एसडीओपी मोरवा को जांच के निर्देश दिए है। ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि थाना प्रभारी पर जल्द ही कार्यवाही की गाज गिर सकती है।

हालांकि थाना प्रभारी की इस कार्यवाही से उनकी ही क्षेत्र में चहुओर किरकिरी हो रही है। लोगों का कहना है कि साहब जो वास्तव में अवैध नशे के कारोबार में संलिप्त हैं उनके ऊपर कार्यवाही करते तो अच्छा होता लेकिन आपने तो अपने ही थाने में खाना में बनाने वाले को निपटा दिया।

एसपी को फरियादी ने रो-रो कर सुनाई अपनी व्यथा

Read Also…सिंगरौली: साहब ने मुझे गुमराह करके किया अवैध शराब बिक्री की कार्यवाही

चितरंगी निवासी फरियादी बृजेंद्र सेन ने पुलिस अधीक्षक सिंगरौली के समक्ष बीते दिवस आवेदन देकर अपनी व्यथा सुनाई और कहा कि साहब 27 दिसंबर को देर रात मेरे ऊपर झूठा अवैध शराब बिक्री का मुकदमा टी आई और ऋषि सिंह ने कायम कर दिया। आगे बताया कि 6 लीटर हाथ भट्टी देसी महुआ शराब की कार्रवाई यह कहकर कर दी गई कि तुम निश्चिंत रहो हम हैं कोई दिक्कत नहीं होगा। लेकिन मुझे नहीं पता था कि मैं इतनी बड़ी परेशानी में फंस जाऊंगा,मैं थाने में बीते 1 वर्ष से खाना बनाकर सेवा कर रहा हूं रहा हूं जिससे मुझे यहाँ के स्टाफ पर पूरा भरोसा था लेकिन मेरे साथ बहुत बड़ा विश्वासघात किया गया है।

कौन है हर्षवर्धन..? ऋषि क्यों दे रहा धमकी..?

चितरंगी थाना प्रभारी ने एसपी से वाहवाही लूटने के लिए अपने ही थाने में खाना बनाने वाले के ऊपर कार्यवाही कर विवादों में घिरे हैं। अनोखी आवाज इस खबर को लगातार प्रमुखता से उठा रहा है। जिसके बाद से फरियादी बृजेन्द्र सेन ने पुलिस अधीक्षक सिंगरौली के समक्ष आवेदन देकर अपनी पीड़ा बताई है। और कहा है कि मेरे ऊपर अवैध शराब बिक्री का झूठा मुकदमा लगाया गया है। साथ ही ऋषि सिंह द्वारा लगातार धमकी दी जा रही है कि यदि यह बात तुम कहीं मीडिया और किसी को बताए तो यह तुम्हारे लिए ठीक नहीं होगा अन्य किसी मुकदमे में फंसा कर तुम्हें जेल भेज दूंगा। उक्त मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक ने एसडीओपी राजीव पाठक को जांच की जिम्मेदारी सौंपी है। अब देखना यह होगा कि फरियादी को न्याय मिलता है या फिर मामले की लीपापोती कर गर्त में डाल दिया जाएगा..? हालांकि इसी मामले से जोड़कर हर्षवर्धन नाम के पुलिसकर्मी की भी चर्चा हो रही है जो अपने कारनामो के लिए आये दिन सुर्ख़ियो में बने रहते है।

इनका कहना है

मौखिक तौर पर मुझे श्रीमान(एसपी) का आदेश मिला है, जब चितरंगी जाएंगे तो विवेचक और फरियादी का कथन लेंगे,फिर जांच कर कार्यवाही होगी।

राजीव पाठक
एसडीओपी,मोरवा

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *