Tuesday, February 7, 2023
HomeमनोरंजनSariya Cement 26 July 2022:घर बनाने का मौका क्या है आज का...

Sariya Cement 26 July 2022:घर बनाने का मौका क्या है आज का नया रेट Sariya Cement अभी देखें नया रेट

Sariya Cement 26 July 2022:घर बनाने का मौका क्या है आज का नया रेट सीमेंट और सरिया अभी देखें नया रेट अगर आप अपना घर बनाने की योजना बना रहे हैं तो इस योजना के क्रियान्वयन में देरी न करें। क्योंकि मकान निर्माण में इस्तेमाल होने वाले रेबार और सीमेंट की कीमतों में गिरावट जारी है। नवंबर से पहले जो बार 65k से 70k प्रति टन के हिसाब से बिक रहे थे, वे अब 57k से 60k प्रति टन के हिसाब से बिक रहे हैं। स्टील की कीमतों में और गिरावट की उम्मीद है। वहीं सीमेंट की कीमतों में भी कमी आई है, जो औसतन 400-450 रुपये प्रति बोरी के भाव से बिक रही है। फिलहाल यह 350 से 380 रुपये प्रति बोरी के हिसाब से बिक रहा है। इसके अलावा निर्माण संबंधी रेत, बजरी, मौरंग के भाव भी मंगलवार को स्थिर रहे।

Sariya Cement 26 July 2022

दो महीने पहले आसमान छू रहे थे दाम
हम बताएंगे कि नवंबर-अक्टूबर से पहले भवनों के निर्माण में इस्तेमाल होने वाली सामग्री के दाम आसमान छू रहे थे। लेकिन दिसंबर के पहले सप्ताह से इनकी कीमतों में गिरावट शुरू हो गई थी। कारोबारियों का कहना है कि निर्माण की कीमतों में गिरावट के पीछे दिन छोटा होने से लोग निर्माण कार्य रोक रहे हैं।
खपत कम होने से कीमतों में गिरावट

इसके कारण, कम मांग के कारण, निर्माण सामग्री को बाजार में डंप करने से कीमतों में कमी आती है। व्यापारियों का कहना है कि रेत की कीमतों में करीब 10-12 हजार रुपये और मूरंग के भाव में 20 हजार रुपये प्रति हजार क्यूबिक फीट की गिरावट आई है। वहीं, गिट्टी के भाव में ढाई हजार से तीन रुपये प्रति हजार घन मीटर की गिरावट दर्ज की गई. कारोबारियों का मानना ​​है कि निर्माण सामग्री की कीमतों में और गिरावट आ सकती है।

निर्माण सामग्री की कीमतें
मूरंग – प्रति हजार क्यूबिक फीट – 70,000 से 50,000 रुपये
रेत – प्रति हजार क्यूबिक फीट – 40,000 से 25,000 रुपए
बोझ – प्रति हजार क्यूबिक फीट – रु.60,000 से रु.55,000
बार्स (प्रति टन) 65,000 से 57,000 रुपये
सीमेंट (प्रति बैग) 360 रुपये से 350 रुपये तक

बार की कीमतें हर दिन गिर रही हैं। मार्च में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने वाली कीमतें अब आधी हो गई हैं। मार्च में शिरची बार की कीमत 85 हजार रुपये प्रति टन थी। जून के पहले सप्ताह में ये घटकर 45,000 रुपये से 50,000 रुपये प्रति टन पर आ गए। न सिर्फ लोकल बार बल्कि बड़ी कंपनियों की ब्रांडिंग भी सस्ती हो गई है। ब्रांडेड बार के दाम भी गिरकर 80-85,000 रुपये प्रति टन पर आ गए। मार्च में इनके दाम दस लाख रुपए प्रति टन तक पहुंच गए थे।

सस्ते भवन निर्माण सामग्री के कारण घर बनाने की लागत में कमी आई है। निर्माण उद्योग में रेत, सीमेंट, छड़ और ईंटों का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है। दरअसल, किसी भी संरचना की नींव सलाखों पर निर्भर करती है। इसके बाद यह दो महीने पहले रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया। खाना पकाने और गर्म करने वाले तेल सहित कई अन्य खाद्य और अखाद्य वस्तुओं की कीमतें भी आसमान छू गई हैं। ऐसे में केंद्र सरकार ने बाजार नीति में हस्तक्षेप किया। कई वस्तुओं पर कर और शुल्क कम कर दिए गए, जबकि निर्यात को रोकने के लिए कई वस्तुओं पर सीमा शुल्क बढ़ा दिया गया। सरकार ने कैंडी बार पर एक्सपोर्ट ड्यूटी भी बढ़ा दी है। इसका सीधा असर घरेलू बाजार में कीमतों में कमी के रूप में दिखा।

सरकार ने अतीत में कई फैसले लिए हैं, जिसमें गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध, चावल की छड़ियों पर आयात शुल्क में वृद्धि शामिल है, ताकि घरेलू कीमतों में बेतहाशा वृद्धि को रोका जा सके। इनका असर सीधे बाजार पर दिख रहा है। आने वाले बरसात के मौसम में निर्माण धीमा हो जाता है, और कीमतों में भी ऐसा ही होता है।

देश में बार की कीमतों में भारी गिरावट आई है। पिछले दो महीनों में कीमतों में आधे से भी कम की गिरावट आई है। इसलिए कंस्ट्रक्शन एक्सपर्ट्स का कहना है कि घर बनाने का यह सबसे अच्छा मौका है।

https://anokhiaawaj.in/health-care-tips-if-there-is-trouble-due-to-fever/
निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments