शहर में लगे उमा भारती के गायब होने के पोस्टर! जानिए क्या है पूरा मामला

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

इंदौर में राज्य की पूर्व सीएम रहीं उमा भारती के गायब होने के पोस्टर जगह-जगह लगे हैं. दरअसल ये पोस्टर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लगाए हैं. कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आरोप है कि उमा भारती ने 15 जनवरी 2022 से लट्ठ लेकर शराबबंदी को लेकर आंदोलन करने की बात कही थी. यही वजह है कि अब कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उमा भारती के गायब होने के आरोप लगाते हुए जगह-जगह उनकी गुमशुदगी के पोस्टर लगा दिए हैं!

इंदौर में शहर कांग्रेस ने 10 से अधिक चौराहों पर यह पोस्टर लगाए हैं. कांग्रेस का आरोप है कि उमा भारती केवल घोषणा करती हैं और ऐसा लग रहा है कि अब वह शराब माफियाओं से डर गई हैं. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदेश सरकार की नई शराब नीति को लेकर भी विरोध दर्ज कराया और आरोप लगाया कि सरकार ने शराब के दाम इसलिए कम किए हैं, ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा पीएं. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कहा कि अगर उमा भारती अभी भी आंदोलन नहीं करती हैं तो थाली, कटोरी बजाकर उन्हें उनकी घोषणा की याद दिलाई जाएगी. 

नई शराब नीति पर हंगामा


दरअसल हाल ही में राज्य सरकार ने नई आबकारी नीति का ऐलान किया है. जिसे एक अप्रैल से राज्य में लागू किया जाएगा. इसके तहत सरकार ने शराब के दामों में कमी करने का फैसला किया है. साथ ही एक रुपए सालाना की आय वाले लोगों को 50 हजार की लाइसेंस फीस देकर घर पर ही बार खोलने की अनुमति भी दी गई है. अब इसे लेकर कांग्रेस सरकार पर हमलावर हो गई है और सरकार पर शराब को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है. 

उमा भारती ने कुछ समय पहले राज्य में शराबबंदी की मांग उठाई थी. इसे लेकर वह सीएम समेत पार्टी के कई बड़े नेताओं से मिलीं भी थीं. जिसके बाद यह मामला ठंडा पड़ गया था. लेकिन उमा भारती ने कहा था कि वह 15 जनवरी 2022 तक का इंतजार करेंगी और उसके बाद शराबबंदी की मांग को लेकर सड़कों पर उतर जाएंगी. यही वजह है कि कांग्रेस नई शराब नीति के विरोध में सबसे ज्यादा उमा भारती को ही निशाने पर ले रही है.

यह भी पढ़े- PM किसान की 10वीं किस्त अब तक नहीं मिली किस्त तो जरूर कर लें ये काम?

हालांकि बता दें कि उमा भारती का आज ट्वीट सामने आया है, जिसमें उन्होंने एक बार फिर से राज्य में अपनी शराबबंदी की मांग दोहराई है. उमा भारती ने अपने ताजा ट्वीट में लिखा कि ‘मेरी प्रथम चरण की बातचीत आरएसएस के वरिष्ठ स्वयंसेवकों, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से हो चुकी है. अगला चरण 14 फरवरी के बाद प्रारंभ करूंगी. शराबबंदी, नशाबंदी एमपी में होकर रहेगी.’

यह भी पढ़े- 60 साल आपकी आयु तो फिर मौज, हर महीना मिलेगी इतने हजार रुपये पेंशन

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *