नेपाल से सटे यूपी के 9 जिलों को सरयू नहर प्रॉजेक्ट की सौगात देने आ रहे PM मोदी

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज 9802 हजार करोड़ की लागत से बनी सरयू नहर परियोजना की सौगात देंगे। बलरामपुर के हंसुआडोल में आयोजित प्रधानमंत्री के कार्यक्रम की सभी तैयारियां पूरी हो गई हैं। दोपहर एक बजे प्रधानमंत्री मोदी का हेलीकॉप्टर सभा स्थल पर उतरेगा। अपने सवा घंटे के प्रोग्राम में पीएम सरयू नहर परियोजना का लोकार्पण करने के साथ-साथ लोगों को संबोधित करेंगे। पीएम के बटन दबाते ही सरयू नहर में पानी का संचालन शुरू हो जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी के दौरे को लेकर यातायात व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त रखा गया है। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर विभिन्न मार्गों पर 21 पार्किंग स्थल बनाए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा में भीड़ जुटाने के लिए चार हजार से अधिक चौपहिया वाहनों को लगाया गया है। चौपहिया व दो पहिया वाहनों के जरिए सभा स्थल पर दो लाख से अधिक लोगों के पहुंचने की उम्मीद है।

11:50  पर  लखनऊ एयरपोर्ट पर उतरा पीएम नरेंद्र मोदी का विमान। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया। 12:07 पर हेलीकॉप्टर से प्रधानमंत्री राज्यपाल और मुख्यमंत्री कार्यक्रम स्थल के लिए रवाना हुए।

पीएम मोदी आज 12 बजकर 40 मिनट पर बलरामपुर पहुंचेंगे। इसके बाद 12 बजकर 55 मिनट पर वो हेलीपैड से कार्यक्रम स्थल के लिए प्रस्थान करेंगे 

मुजेहना क्षेत्र के 32 बसों से सवार होकर बलरामपुर में मोदी की रैली में शामिल होने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, समूह की महिलाओं समेत बड़ी संख्या में लोग रवाना हो गए

दूसरे जिलों जुटने लगी भीड़, पुलिस ने बढ़ाई चौकसी

एसपीजी ने किया पीएम आगमन का पूर्वाभ्यास, मंत्री व जनप्रतिनिधियों ने तैयारियों का लिया जायजा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में सरयू नहर परियोजना का लोकार्पण करेंगे। 9800 करोड़ रुपये की इस परियोजना का फायदा 9 जिलों के 25 से 30 लाख किसानों को होगा। इससे 14 लाख हेक्टेअर सिंचन क्षमता बढ़ेगी। कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे। इस परियोजना को पूरा होने में 50 साल का समय लग गया।

सरयू नहर परियोजना से बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, गोंडा, बस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीरनगर, महराजगंज और गोरखपुर को जोड़ा गया है। 1972 में इस योजना का ड्राफ्ट बना था और 1978 में काम शुरू हुआ था। इसे पूरा होने में 43 साल लग गए। 2017 तक योजना में महज 52% काम हुआ था। साढ़े चार सालों में बचा 48% काम पूरा किया गया है।

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *