MP vs CG: कालीचरण के गिरफ्तारी पर नरोत्तम मिश्रा ने उठाए सवाल

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

भोपालः छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आयोजित धर्म संसद में महात्मा गांधी पर विवादित बयान देने वाले संत कालीचरण को छत्तीसगढ़ पुलिस ने मध्य प्रदेश के खजुराहों से गिरफ्तार किया गया है. उनकी गिरफ्तारी के बाद मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ आमने-सामने आ गए हैं. एमपी के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इस तरह हुई गिरफ्तारी पर विरोध जताया है. तो छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गिरफ्तारी को नियमों के आधार पर होने की बात कही है. 

ये आपत्तिजनक है 

नरोत्तम ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार के तरीके पर हमें तरीके पर आपत्ति है। छत्तीसगढ़ पुलिस ने इंटरस्टेट प्रोटोकॉल का उल्लंघन किया है, जो उन्हें नहीं करना था। संघीय मर्यादाएं इसकी बिल्कुल इजाजत नहीं देतीं। उन्हें सूचना देनी चाहिए थी। छत्तीसगढ़ सरकार चाहती तो उन्हें नोटिस देकर भी बुला सकती थी। मैंने मध्य प्रदेश के DGP को छत्तीसगढ़ से DGP से तुरंत बात करने को कहा है। छत्तीसगढ़ के डीजीपी को बताए जाए कि ये उनका क्या तरीका है? डीजीपी इस तरीके पर विरोध दर्ज कराएं और स्पष्टीकरण भी लें।

नियमों के तहत हुई गिरफ्तारीः सीएम बघेल 


वहीं इस मामले में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का रिएक्शन भी सामने आया है. उन्होंने कहा कि ”छत्तीसगढ़ सरकार ने नियमों के तहत कार्रवाई की है. पुलिस की तरफ से कालीचरण के परिवार को सूचना दे दी गई थी. जबकि रिपोर्ट दर्ज होने के बाद वह पुलिस के समक्ष पेश नहीं हुए जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया है. 24 घंटे के अंदर कालीचरण को कोर्ट में पेश किया जाएगा.” वहीं जब उनसे नरोत्तम मिश्रा के ऐतराज को सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि पहले नरोत्तम मिश्रा को यह बताना चाहिए की वह महात्मा गांधी को गाली देने वाले की गिरफ्तारी से खुश है या नहीं.”

यानि कालीचरण की गिरफ्तारी के बाद मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ आमने-सामने आ गए हैं.  क्योंकि इस मामले में अब सियासत भी शुरू होती नजर आ रही है. फिलहाल छत्तीसगढ़ पुलिस कालीचरण को गिरफ्तार करके खजुराहो से ले गई है.

क्या है कालीचरण महाराज का विवाद?

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर अभद्र टिप्पणी करने वाले कालीचरण महाराज को रायपुर पुलिस ने एमपी से गिरफ्तार कर लिया है। 29 दिसंबर को छत्तीसगढ़ (CG) पुलिस ने एमपी के खजुराहो के एक होटल से कालीचरण को अरेस्ट किया। कालीचरण के खिलाफ रायपुर और पुणे में केस दर्ज किए गए थे। रायपुर में हुई धर्म संसद में कालीचरण महाराज ने महात्मा गांधी को लेकर अपशब्द कहे थे। उन्होंने कहा था कि 1947 में हमने अपनी आंखों से देखा कि कैसे पाकिस्तान और बांग्लादेश पर कब्जा किया गया। मोहनदास करमचंद गांधी ने उस वक्त देश का सत्यानाश किया। नमस्कार है नाथूराम गोडसे को, जिन्होंने उन्हें मार दिया। 

दुनिया के लिए सामने आई राहत भरी खबर, वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाला ओमिक्रॉन वेरिएंट का तोड़

कालीचरण महाराज महाराष्ट्र के अकोला के पुराने शहर शिवाजी नगर के रहने वाले हैं। उनका असली नाम अभिजीत धनंजय सराग है। वो भावसार समाज (Bhavsar Community) से आते हैं। कालीचरण महाराज एक साधारण परिवार में जन्मे, जन्म अकोला में हुआ। उनके पिताजी धनंजय सराग की मेडिकल शॉप है। कालीचरण महाराष्ट्र अकोला में हर साल कांवड़ यात्रा में हिस्सा लेते हैं। शिवभक्त कालीचरण महाराज अपने रूप और श्रृंगार को लेकर चर्चा में रहते हैं।

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *