MP News: गेहूं निर्यात को लेकर MP सरकार ने उठाया बड़ा कदम, गेहू के दामों में आयेगा भारी उछाल

गेहूं निर्यात

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

MP के किसानों के लिए अच्छी खबर है गेहूं निर्यात को लेकर प्रदेश सरकार ने बड़ा कदम उठाया है

Gehun Ke Bhav Me Aayega Bhari Uchhal: गेहूं निर्यात को लेकर मध्य प्रदेश सरकार ने उठाया बड़ा कदम, गेहू के दामों में आयेगा भारी उछाल मध्य प्रदेश के किसानों के लिए अच्छी खबर है गेहूं निर्यात (MP government took a big step for wheat export) को लेकर प्रदेश सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। गेहूं के भाव साल भर ऊंचे स्तर पर बने रहने की संभावनाएं बढ़ गई है, क्योंकि मध्य प्रदेश सरकार ने गेहूं निर्यात के लिए प्रयास तेज कर दिए हैं। प्रदेश सरकार ने गेहूं निर्यात के लिए बड़ा कदम उठाया है। गेहूं का निर्यात बढ़ाने के लिए राज्य सरकार ने अधिकारियों को गुजरात, महाराष्ट्र, बंगाल और आंध्र प्रदेश भेजा है। अधिकारी वहां निर्यातकों से बातचीत कर उन्हें मध्य प्रदेश का गेहूं निर्यात करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं।

सरकार के इन फैसलों से निर्यात बढ़ेगा(MP government took a big step for wheat export)

गेहूं निर्यात बढ़ाने को लेकर मध्य प्रदेश सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। इसके परिणाम भी सामने आने लगे हैं, प्रदेश से गेहूं का निर्यात बढ़ा है। गेहूं निर्यात के लिए मंडी बोर्ड में पंजीयन का शुल्क भी 3.16 लाख रुपये से घटाकर मात्र 1000 रुपये किया गया है। डेढ़ प्रतिशत मंडी शुल्क की प्रतिपूर्ति भी सरकार करेगी और बंदरगाहों पर अनाज रखने का व्यवस्था भी बनाई गई है ताकि निर्यातकों को परेशानी न हो।

Three lakh tonnes of wheat exported from the state प्रदेश से तीन लाख टन गेहूं निर्यात किया

मंडी बोर्ड के प्रबंध संचालक विकास नरवाल ने बताया कि गेहूं निर्यात बढ़ाने के लिए उठाए गए इन कदमों के परिणाम सामने आ रहे हैं। अभी तक प्रदेश से तीन लाख टन गेहूं निर्यात किया जा चुका है। उन्होंने यह भी बताया कि अभी तक तीन पंजीयन हुए हैं। प्रदेश से हो रहे गेहूं निर्यात के कारण गेहूं के भाव अच्छे बने रहने की उम्मीदें बढ़ गई है।

Support price wheat procurement started to be paid समर्थन मूल्य गेहूं उपार्जन का भुगतान होने लगा

अधिकारियों ने बताया कि इस बार किसान के आधार से लिंक खाते में भुगतान करने की व्यवस्था लागू की है। इसमें कुछ समय लगा है। रविवार तक 25 लाख 76 हजार टन गेहूं का उपार्जन किया गया। किसानों को 5191 करोड़ रुपये का भुगतान किया जाना है। 1107 करोड़ रुपये के भुगतान पत्रक तैयार हो चुके हैं। 24762 किसानों को 344 करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है। अब प्रतिदिन लगभग 35 हजार किसानों के खातों में पांच सौ करोड़ रुपये का भुगतान किया जाएगा। दो मई तक सभी लंबित भुगतान कर दिए जाएंगे।

CM gave instructions to officers CM ने अधिकारियों को दिए निर्देश

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गेहूं और चना उपार्जन के साथ ही गेहूं निर्यात को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि उपज बेचने के बाद भुगतान नहीं होने की शिकायतें मिल रही हैं। जो भी समस्या है, उसे तत्काल दूर करें। भुगतान में विलंब नहीं होना चाहिए। गौरतलब है कि किसान के आधार से लिंक खाते में भुगतान करने की व्यवस्था की गई है।

Wheat procurement work will run till May 10 10 मई तक चलेगा गेहूं उपार्जन का कार्य

MP government took a big step for wheat export मध्य पदेश में समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी का कार्य 28 मार्च से उज्जैन इंदौर संभाग से शुरू हुआ था। प्रदेश के अन्य जिलों में गेहूं उपार्जन की शुरुआत 4 अप्रैल से की गई थी। उज्जैन इंदौर संभाग में गेहूं उपार्जन का कार्य 10 मई तक होगा। वही प्रदेश के अन्य जिलों में 16 मई तक समर्थन मूल्य पर खरीदी का कार्य चलेगा। ज्ञात हो कि इस वर्ष गेहूं उपार्जन के दौरान स्लाट बुकिंग की व्यवस्था की गई है, किसानों को गेहूं विक्रय के लिए दिन समय चुनने की सुविधा प्रदान दी गई है।

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.