lifestyle news in hindi: बच्चे को प्लास्टिक की बोलत में पिलाती हैं दूध? तो कर लीजिए इस खतरनाक सच का सामना

google image

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

lifestyle news in hindi: मां के Milk को बच्चे के लिए कंप्लीट फूड माना जाता है, लेकिन पिछले कुछ दशकों में बोलत में Milk पिलाने का चलन बढ़ा है, ऐसा करना खतरनाक साबित हो सकता है.

  • मां का दूध बेबी के लिए बेस्ट
  • बोटल से दूध पिलाने के खतरे
  • फीडर में हैं केमिकल कंटें
  • नई दिल्ली lifestyle news in hindi: Side Effect Of Feeder Milk अगर आप भी अपने बच्चे को प्लास्टिक की बोतल से Milk पिलाती हैं तो यह खबर पढ़ना आपके लिए बहुत जरूरी है. दरअसल देश के अलग-अलग राज्यों में बिक रही बच्चों की दूध की बोतल और सिपर में खतनाक केमिकल होता है. एक रिसर्च से यह बात सामने आई है. भले ही आप बच्चे की सेहत के लिए हर छोटी-छोटी चीजों का ध्यान रख रही हो. लेकिन आपको बच्चे को सेहतमंद रखने के लिए हमेशा सजग रहना जरूरी है.
google image

फीडर में होते हैं केमिकल कंटेंट

कई रिसर्च से साफ हुआ है कि छोटे बच्चों के दूध की बोतल और सिपर कप में केमिकल की मात्रा मिल रही है, जो की जानलेवा है. खास किस्म का रसायन ‘बिस्फेनॉल-ए’ (Bisphenol A) बच्चों की Milk की बोतल में किए गए के दौरान पाया गया, जो बेहद नुकसानदेह है और इसके प्रभाव से बच्चों में आगे चलकर अलग-अलग तरह की बीमारियां होने का कारण बनता है.

टॉक्सिक लिंक की रिपोर्ट में खुलासा

देश के अलग-अलग हिस्सों से एकत्र किए गए नमूनों के आधार पर दिल्ली आधारित संस्था टॉक्सिक लिंक (Toxic Link) ने अपनी रिसर्च रिपोर्ट में दावा किया है देश के बाजार में धड़ल्ले से बिक रही दूध की बोतल और सिपर बच्चों के लिए सेफ नहीं हैं. बीते 4 साल में दूसरी बार जारी की गई इस स्टडी में साफ किया गया है कि बीआईएस (ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड) का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है.

google image

घटिया कंपनी वाली बोतलों से रहे सावधान

सस्ती और घटिया कंपनी वाली बोतलों को भी केमिकल की कोटिंग कर के उन्हें मुलायम रखती है. साथ ही बोतल लंबे समय तक खराब नहीं होती है. जब बोतल में गर्म दूध या पानी डालकर बच्चे को पिलाया जाता है. तो यह रसायन भी घुलकर बच्चे के शरीर में चला जाता है और शरीर में जाने के बाद इस रसायन से पेट और आंतों के बीच का रास्ता बंद हो जाता है. जिससे कभी-कभी जान का भी खतरा बन जाता है. यही नहीं काफी दिनों तक दूध के सहारे शरीर में रसायन पहुंचने के कारण ह्रदय, गुर्दे, लिवर और फेफड़ों की बीमारी हो सकती है

सस्ती और घटिया कंपनी वाली बोतलों को भी केमिकल की कोटिंग कर के उन्हें मुलायम रखती है. साथ ही बोतल लंबे समय तक खराब नहीं होती है. जब बोतल में गर्म दूध या पानी डालकर बच्चे को पिलाया जाता है. तो यह रसायन भी घुलकर बच्चे के शरीर में चला जाता है और शरीर में जाने के बाद इस रसायन से पेट और आंतों के बीच का रास्ता बंद हो जाता है. जिससे कभी-कभी जान का भी खतरा बन जाता है. यही नहीं काफी दिनों तक दूध के सहारे शरीर में रसायन पहुंचने के कारण ह्रदय, गुर्दे, लिवर और फेफड़ों की बीमारी हो सकती है.

google image

बच्चे के गले में सूजन का खतरा

बोतल से लगातार दूध पिलाने से बच्चे के गले में सूजन आ जाती है. उसे उल्टी दस्त भी हो सकते हैं. डायरिया भी हो जाता है. तो हमेशा मेडिकेडेट बोतल का इस्तेमाल करें. गुणवत्ता वाली बोतलें मेडिकल स्टोरों पर उपलब्ध होती हैं. पॉली कार्बोनेट से बनी बेबी बॉटल पर बीआईएस (ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड) ने 2015 में ही रोक लगा दी थी, लेकिन इसके बावजूद यह अब भी इंडियन मार्केट में उपलब्ध है और बच्चों की बीमारियों का एक बड़ा कारण बन रही है. इसको लेकर अभी कोई कानून न होने का फायदा बहुत कंपनियां उठा रही है और नन्हे मासूमों को इसका शिकार होना पड़ रहा है.

MP Crime News in hindi today: नाबालिग की कीमत 2 लाख रुपये, मां, बांप ने 50,000 लेकर करा दी शादी; केस दर्ज

क्या आप जानते हैं?k का मतलब, क्यों लिखा जाता है 1000 को 1k

Letest news in Hindi:अब बिना इंटरनेट के भी भेज सकते है पैसे ,Rbi ने लांच किया UPI123Pay

UP Board Exam Date Sheet 2022: यूपी बोर्ड 10-12वीं परीक्षा की तारीख जारी; यहां चेक करें टाइम टेबल

Mp Breking news in hindi: Aviationअब इंदौर से श्रीनगर जाना हुआ आसान, विमान सेवा हुई शुरू

Breaking News in hindi:व‍िदेश आने-जाने वालों के ल‍िए बड़ी खबर, दो साल बाद इस द‍िन से फ‍िर शुरू होंगी इंटरनेशनल फ्लाइट्स

TATA ला रही ऐसी SUV जो बढ़ा देगी Creta की टेंशन, मार्केट पर छा जाएगी ‘ब्लैकबर्ड’

TVS ने लॉन्च की धांसू लुक वाली ये किफायती मोटरसाइकिल, जानिए माइलेज और फीचर्स 

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

बहुचर्चित खबरें