SINGRAULI :-नगर निगम में 25 से 30 वर्षों से पदस्थ अधिकारी कर्मचारी आखिर कब होगा इनका तबादला या ट्रांसफर।

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

SINGRAULI में कमियों को छुपाते है कमिश्नर साहब आखिर में कैसे नगर पालिक निगम सिंगरौली तीसरे स्थान पर है।

अनोखी आवाज के साथ सच्चाई दिखाना

SINGRAULI :- नगर निगम में 25 से 30 वर्षों से पदस्थ अधिकारी कर्मचारी आखिर कब होगा इनका तबादला या ट्रांसफर_

SINGRAULI :- हर मामले में तीसरे स्थान आने वाला नगर पालिक निगम SINGRAULI:- आखिर चढ गया भ्रष्टाचार को भेंट एक से बढ़कर एक आ रहे मामले नहीं हो रहा

कोई निराकरण सूत्रों का कहना अधिकारी कर्मचारी सारे एक से एक बढ़कर ले रहे सुविधा और उल्टा गरीबों के पेट पर मार रहे पेर आखिर कैसे आम पब्लिक को मिलने वाली सुविधा आवास जल अमृत योजना तथा ऐसे कई सुविधाएं जो कि गरीबों के हित के लिए बनाई गई थी

तथा अधिकारी कर्मचारी कर रहे इधर उधर नगर निगम में 20 से 25 वर्ष से पदस्थ अधिकारी कर्मचारी जैसे बीपी उपाध्याय आर,के, जैन आर ओ साहब अनिल सिंह तमाम ऐसे अधिकारी हैं

जिनका आज दिनांक तक ट्रांसफर नहीं हुआ आखिर जनता पूछता है कि क्यों।

क्या लोकल होने का परिचय तो नहीं की जिले के कलेक्टर एवं एसपी जिनका ट्रांसफर पदस्थ होने के साल भर 6 महीने में हो जाता है ट्रांसफर जबकि पुलिस अधीक्षक और जिला कलेक्टर को जिले में रहना चाहिए लेकिन इनको यहां से हटा दिया जाता है

और दलालों को खुला छोड़ दिया जाता है लोगों को लूटने के लिए ओर खून चूसने के लिए इन दलालों को छोड़ दिया जाता है आखिर कब तक चलेगा यह अधिकारियों का गुंडाराज सूत्रों की मानें तो नगर पाली निगम सिंगरौली में पदस्थ उपाध्याय आरो साहब आर,के, जैन अनिल सिंह तमाम लोगों का कहना है

कि मेरा तो यहां से लेकर भोपाल दिल्ली तक सेटिंग है मेरा कोई बाल बांका नहीं कर पाएगा जब मेरा ऊपर सेटिंग है तो यहां के कलेक्टर और एसपी तो आम बात है मेरे यहां से बड़ी बड़ी रकम गाड़ियों में भरकर जाता है मेरा कौन करेगा मेरा ट्रांसफर अगर कोई करेगा तो उनको पैसा कहां से मिलेगा यही तो कमाई का जरिया है लूटने और खाने भ्रष्टाचारी से तो चलता है यहां तक कि नगर निगम से 5 किलोमीटर 10 किलोमीटर दूर पर घर है ऐसे अधिकारी कर्मचारी पदस्थ हैं

फिर भी नगर निगम आवास का उठा रहे लाभ आखिर एक साथ सरकारी आवास और निजी आवास में गजब हो गया खेला यहां तक की नगर निगम अधिकारी 5 करोड़ 10 करोड़ पचास करोड़ के बिल्डिंग जिले में खड़ा कर रखे हैं

आखिर इतनी संपत्ति आई कहां से क्या इसकी जांच नहीं होनी चाहिए यदि होनी चाहिए तो कब होगा इनके आय और व्यय का जांच और कब होगा भ्रष्टाचार का खुलासा।

Portable Mini Home Theater: महंगा टीवी छो​ड़िए, तीन हजार से भी कम में मिल रहा ये पोर्टेबल प्रोजेक्टर, देगा थिएटर का मज

Gwalior News : मध्यप्रदेश में जिंदा महिला का पोस्टमार्टम!

Bhopal News:उबलती चाय की भगोनी पर गिरा सात माह का मासूम, मौत

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.