Tuesday, February 7, 2023
Homeधर्मHariyali Amavasya 2022: कब है हरियाली अमावस्या? जानें पूजा का शुभ मुहूर्त...

Hariyali Amavasya 2022: कब है हरियाली अमावस्या? जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और विधि, लक्ष्मी प्राप्ति के लिए करें ये एक काम

Hariyali Amavasya 2022: महादेव शिव के प्रिय माह श्रावण की कृष्ण पक्ष की अमावस्या, जो इस बार 28 जुलाई को है, को ही हरियाली अमावस्या कहते हैं।

Hariyali Amavasya 2021 | Sawan amavasya Kab Hai 2021। Sawan hariyali  amavasya । hariyali amavasya-08 august 2021। hariyali amavasya  date।hariyali amavasya in hindi | Hariyali Amavasya 2021: सावन में हरियाली  अमावस्या कब है, जानिए इस दिन बन रहे ...
Hariyali Amavasya

 Hariyali Amavasya 2022: सावन मास की अमावस्या को हरियाली अमावस्या कहा जाता है। हिंदू धर्म में इस दिन का विशेष महत्व बताया गया है। हरियाली अमावस्या के दिन भगवान शिव व माता पार्वती की पूजा का विधान है। इस दिन सुहागिनें श्रृंगार का सामान बांटती हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इस साल हरियाली अमावस्या या सावन मास की अमावस्या 28 जुलाई को है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हरियाली अमावस्या के दिन पीपल के मूल भाग में जल, दूध चढ़ाने से पितृ तृप्त होते हैं। शाम के समय सरसों के तेल का दीपक जलाने से शनिदेव शांत होते हैं। जानिए हरियाली अमावस्या का महत्व, पूजन विधि व शुभ मुहूर्त-

हरियाली अमावस्या का शुभ मुहूर्त-

अमावस्या का प्रारंभ 27 जुलाई को रात 09 बजकर 11 मिनट हो रहा है, जो अगले दिन 28 जुलाई को रात 11 बजकर 24 मिनट तक रहेगी। इसके बाद श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा प्रारंभ हो जाएगी। 

हरियाली अमावस्या की पूजा विधि-

 सुबह जल्दी उठकर स्नान करके भगवान शिव और पार्वती की पूजा करनी चाहिए। सुहागन महिलाओं को माता पार्वती की पूजा करने के बाद सुहाग सामग्री बांटनी चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार आज के दिन जो भी महिला सुहाग सबंधी सामग्री जैसे हरी चूड़ियां, सिंदूर, बिंदी बांटती है उसके सुहाग की आयु लंबी होती है और घर में खुशहाली बनी रहती है। हरियाली अमावस्या के दिन पीपल और तुलसी के पेड़ की पूजा करनी चाहिए और प्रसाद में मालपुआ का भोग लगाना चाहिए। 

लक्ष्मी प्राप्ति के लिए लगाएं कदम्ब या आंवले का वृक्ष-

भविष्यपुराण में लिखा है कि जिसको संतान नहीं है, उसके लिए वृक्ष ही संतान हैं। जो वृक्ष लगाते हैं, उनके लौकिक-पारलौकिक कर्म वृक्ष ही करते हैं, इसलिए जिनके संतान नहीं है, उन्हें तो अवश्य वृक्ष लगाने चाहिए। वृक्ष में विद्यमान देवी-देवता पूजा करने वालों की इच्छा पूर्ण करते हैं।

लव राशिफल 26 जुलाई: इन राशि वालों को लव लाइफ में मिल सकती है निराशा, ये लोग करेंगे बदलाव का अनुभव

ऑडी: बंद हो जाएगी ये गाड़ियां, इस कंपनी ने लिया बड़ा फैसला, सामने आई नई जानकारी

जब इन एक्ट्रेसेस के लिए फैंस ने की हदें पार, किसी ने दी जान से मारने की धमकी, तो कोई गया भूख हड़ताल पर

बच्चे की एनर्जी का करें सही इस्तेमाल, हाइपर एक्टिव बच्चे को शांत करने के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

OnePlus TWS: भारत में OnePlus अगले महीने TWS ईयरबड्स की एक और जोड़ी करेगी लॉन्च

निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments