महिला IAS अफसर ने पिता से कन्यादान कराने से किया इनकार

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

UPSC की परीक्षा में 23वीं रैंक हासिल कर पूरे देश में चर्चा बटोरने वाली किसान की आईएएस बेटी तपस्या परिहार ने एक बार फिर सुर्खियां बटोरीं हैं। तपस्या की शादी इसलिए बेहद चर्चा में है क्योंकि उन्होंने कन्यादान कराने से इनकार कर दिया। तपस्या ने अपने पिता से कहा है कि मैं दान की चीज नहीं हूं,आपकी बेटी हूं। और हमेशा रहूंगी। तपस्या की ये बात हर किसी के दिल छू गई।कन्यादान से किया इनकार

नरसिंहपुर जिले के जोबा गांव में तपस्या ने आईएफएस अधिकारी गर्वित गंगवार से शादी की। हिंदू संस्कृति में कन्यादान का विशेष महत्व होता है लेकिन तपस्या ने सारे बंधनों को तोड़ते हुए अपनी शादी में कन्यादान की रस्म को नहीं होने दिया। गुरुवार को जोवा गांव में इस शादी का रिसेप्शन हुआ है। कन्यादान जैसी रस्म को दूर कर दोनों आईएएस और आईएफएस अधिकारियों शादी को अनोखा बना दिया और एक मिसाल पेश कर चर्चाओं में ला दिया।
 

तपस्या का कहना है कि बचपन से ही वो समाज की इस विचारधारा के विरोध में थी। उन्हें लगता था कि कैसे कोई उनका कन्यादान कर सकता है, वो भी उनकी मर्जी के बगैर। लेकिन जब परिवार से इस बारे में बात की तो वो मान गए। ज्यादा खुशी इस बात की है कि जीवनसाथी और ससुराल वालों ने भी मेरे निर्णय का सम्मान किया और बिना कन्यादान दिए शादी संपन्न हो गई। हालांकि पूरी शादी वैदिक मंत्रों के साथ और बाकी के पूरे रीति रिवाज से संपन्न हुई। 

तपस्या बताती हैं कि मसूरी (उत्तराखंड) में ट्रेनिंग के दौरान गर्वित से उनकी मुलाकात हुई। विचार एक जैसे और स्वतंत्र थे। गर्वित गंगवार पहले तमिलनाडु कैडर के आईएफएस रहे। नवंबर में उन्हें मध्य प्रदेश कैडर मिल गया। कैडर ट्रांसफर के लिए तपस्या और गर्वित ने जुलाई में कोर्ट मैरिज की थी। अब  पारंपरिक तरीके से विवाह कार्यक्रम हो गया। 

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *