Tuesday, February 7, 2023
Homeमध्यप्रदेशDriving License ke new Rule: ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के नए नियम!...

Driving License ke new Rule: ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के नए नियम! इस बार आपका फायदा ही फायदा

Driving License New Rules: ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना अब बेहद आसान हो गया है. केंद्र सरकार ने कुछ नियमों में बदलाव कर दिया गया है, जिसके बाद आम आदमी को ड्राइविंग लाइसेंस के लिए RTO के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी. आइए जानते हैं इसकी पूरी प्रक्रिया. 

नई दिल्ली: Driving License New Rules: गाड़ी चलाने वालों के लिए जरुरी खबर है. ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए अब आपको रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (RTO) के चक्कर लगाने, लंबी लंबी लाइनों में लगने की जरूरत नहीं है. केंद्र सरकार ने ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के नियमों को बेहद आसान कर दिया है.

DL के लिए ड्राइविंग टेस्ट की अब जरूरत नहीं

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए नियमों में किए गए संशोधनों के मुताबिक अब आपको किसी तरह का कोई ड्राइविंग टेस्ट RTO जाकर देने की जरूरत नहीं होगी. केंद्रीय सड़क परिवहन और हाईवे मंत्रालय ने इन नियमों को नोटिफाई कर दिया है, ये नियम लागू भी हो चुके हैं. इससे ड्राइविंग लाइसेंस के लिए RTO की वेटिंग लिस्ट में पड़े हैं, बड़ी राहत मिलेगी. 

ड्राइविंग स्कूल जाकर ट्रेनिंग लेनी होगी

मंत्रालय की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार, अब ड्राइविंग लाइसेंस पाने के लिए RTO में आपको टेस्ट का इंतजार नहीं करना पड़ेगा.आप ड्राइविंग लाइसेंस के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल में अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं. उन्हें ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल से ट्रेनिंग लेना होगा और वहीं पर टेस्ट को पास करना होगा, स्कूल की ओर से एप्लीकेंट्स को एक सर्टिफिकेट दिया जाएगा. इसी सर्टिफिकेट के आधार पर एप्लीकेंट का ड्राइविंग लाइसेंस बना दिया जाएगा. 

जाने क्या हैं नये नियम,

ट्रेनिंग सेंटर्स को लेकर सड़क और परिवहन मंत्रालय की ओर से कुछ गाइडलाइंस और शर्तें भी हैं. जिसमें ट्रेनिंग सेंटर्स के क्षेत्रफल से लेकर ट्रेनर की शिक्षा तक शामिल है. चलिए इसको समझते हैं. 

1. अधिकृत एजेंसी ये सुनिश्चित करेगी की दोपहिया, तिपहिया और हल्के मोटर वाहनों के ट्रेनिंग सेंटर्स के पास कम से कम एक एकड़ जमीन हो, मध्यम और भारी यात्री माल वाहनों या ट्रेलरों के लिए सेंटर्स के लिए दो एकड़ जमीन की जरूरत होगी.

2. ट्रेनर कम से कम 12वीं कक्षा पास हो और कम से कम पांच साल का ड्राइविंग अनुभव होना चाहिए, उसे यातायात नियमों का अच्छी तरह से पता होना चाहिए.  

3. मंत्रालय ने एक शिक्षण पाठ्यक्रम भी निर्धारित किया है. हल्के मोटर वाहन चलाने के लिए, पाठ्यक्रम की अवधि अधिकतम 4 हफ्ते होगी जो 29 घंटों तक चलेगी. इन ड्राइविंग सेंटर्स के पाठ्यक्रम को 2 हिस्सों में बांटा जाएगा. थ्योरी और प्रैक्टिकल.

4. लोगों को बुनियादी सड़कों, ग्रामीण सड़कों, राजमार्गों, शहर की सड़कों, रिवर्सिंग और पार्किंग, चढ़ाई और डाउनहिल ड्राइविंग वगैरह पर गाड़ी चलाने के लिए सीखने में 21 घंटे खर्च करने होंगे. थ्योरी हिस्सा पूरे पाठ्यक्रम के 8 घंटे शामिल होगा, इसमें रोड शिष्टाचार को समझना, रोड रेज, ट्रैफिक शिक्षा, दुर्घटनाओं के कारणों को समझना, प्राथमिक चिकित्सा और ड्राइविंग ईंधन दक्षता को समझना शामिल होगा.

INDIA में लोगों को खूब भा रही ये धांकड़ XUV, लेकिन इतने दिन करना पड़ेगा इंतजार

सिंगरौली:सब रजिस्ट्रार दफ्तर में कौन ले रहा प्रति रजिस्ट्री में दो-दो हजार रूपये?

मुख्यमंत्री शिवराज का बड़ा ऐलान, इन स्टूडेंट्स को अब मिलेंगे 25000 रु, जानें योग्यता

बैंक की सर्विस के साथ निमों में किया गया बदलाव, जेब पर पड़ने वाला है असर

Second Hand Car खरीदने का कर रहें प्लान, तो फॉलो करें कमाल के ये टिप्स

IOCL Recruitment 2022: IOCL में इन पदों पर निकली बंपर वैकेंसी, 12वीं, ग्रेजुएट करें अप्लाई

MP Police Constable Recruitment Exam 2021-2022:एमपी पुलिस कांस्टेबल 6000 पदों भर्ती

Coast Guard West Region Recruitment 2022:कोस्ट गार्ड में सिविलियन कैटेगरी के पदों पर नौकरियां

निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments