Monday, February 6, 2023
Homeराष्‍ट्रीयउद्धव ने की थी राज ठाकरे को मनाने की कोशिश? रामदास कदम...

उद्धव ने की थी राज ठाकरे को मनाने की कोशिश? रामदास कदम ने किया खुलासा

अगर रामदास कदम और दिवाकर राव कैबिनेट में होते तो अजित पवार को खुला मैदान नहीं मिलता। कोरोना के कारण उद्धव ठाकरे 2 साल से घर में थे। इस दौरान अजीत पवार ने प्रशासन पर अच्छी पकड़ बना ली।

Maharashtra: उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका, रामदास कदम ने भी छोड़ा साथ, पढ़ें  आखिर क्यों लिया ये बड़ा फैसला | TV9 Bharatvarsh
रामदास

महाराष्ट्र की राजनीति में बीते दिनों बड़ा सियासी बवंडर देखने को मिला। शिवसेना के बागी विधायकों के तेवर ने उद्धव ठाकरे से मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली। आरोप लगाए गए कि साथ-साथ सरकार चलाने वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) ने भगवा खेमे को खत्म करने की साजिश रची थी। अब यह कहा जा रहा है कि अगर रामदास कदम और दिवाकर राव कैबिनेट में होते तो अजित पवार को खुला मैदान नहीं मिलता। कोरोना के कारण उद्धव ठाकरे 2 साल से घर में थे। इस दौरान अजीत पवार ने प्रशासन पर अच्छी पकड़ बना ली। उन्होंने अपनी पार्टी एनसीपी को बढ़ाने की कोशिश की। 

रामदास कदम ने ‘माजा कट्टा’ पर बोलते हुए कहा कि बालासाहेब के विचारों को किसने धोखा दिया? आदित्य ठाकरे को यह आत्मनिरीक्षण करना चाहिए। आपकी उम्र क्या है? आपने अपने विधानसभा क्षेत्र में क्या किया? दीपक केसरकर ने कहा कि हमारा कोई भी विधायक मातोश्री, उद्धव ठाकरे, आदित्य ठाकरे के खिलाफ बात नहीं करेगा। हर कोई बोल सकता है लेकिन हम नहीं बोलेंगे। शिंदे गुट के विधायक यह बात समझते हैं। 

रामदास कदम ने आगे कहा, सभी विधायकों का स्टैंड तया था कि आप एनसीपी का साथ छोड़ दीजिए, हम फिर आएंगे। हालांकि कई विधायक संजय राउत की भाषा से नाराज हो गए। उन्होंने कहा, ”हमने शिवसेना के लिए खड़े होकर दूसरों की आंखों में आंसू ला दिए। 52 साल बाद अब उन्हें शिवसेना से निकाला जा सकता है। आप कितने लोगों को निर्वासित करने जा रहे हैं? आदित्य के साथ जो भीड़ दिखती है, कल हम भी चलेंगे तो वहां भी भीड़ होगी। क्या हमने इतने साल पार्टी में बर्बाद किए?

राज ठाकरे के करीबी होने की मिली सजा?
रामदास कदम ने कहा, ”बाला नंदगांवकर और मैं आखिरी वक्त तक राज ठाकरे के साथ थे। हम करीबी दोस्त थे। जब राज ठाकरे शिवसेना छोड़कर जा रहे थे तो मेरी आंखों में आंसू आ गए। जब वह पुणे गए तो मैं मातोश्री गया। हमने उद्धव ठाकरे से पूछा कि क्या वह राज को रोकने की कोशिश करेंगे? उन्होंने कहा हां। लेकिन ये कोशिश कामयाब नहीं हुई। मेरे मन में अभी भी यह सवाल है कि क्या वह मुझसे इसलिए नाराज थे क्योंकि मैं राज ठाकरे के करीब था।”

कदम ने आगे कहा, ”दो दिन पहले मेरी राज ठाकरे से फोन पर बातचीत हुई थी। उन्होंने कहा कि चाय पीने आ जाओ। अगर मैं जाऊंगा तो पेट में जो है उसे अपने होठों पर रखूंगा। राज मेरे साथ रहे। बालासाहेब के विचारों के साथ रहे।” रामदास कदम ने कहा है कि हमारी दोस्ती हमेशा के लिए है। साथ ही मेरा बेटा एकनाथ शिंदे के साथ है, वह किसी पार्टी में शामिल नहीं होगा। 

मुंबई में मराठी प्रतिशत में कमी क्यों आई?
शिवसेना 25 साल से मुंबई नगर निगम पर शासन कर रही है। 25 साल पहले कितने मराठी लोग बचे थे और अब कितने हैं? मराठी प्रतिशत घटा हमने मराठी लोगों के लिए क्या किया है? इसका उत्तर हमारे साथ देना चाहिए। शिवसेना मराठी लोगों के अधिकारों के लिए लड़ रही थी। रामदास कदम ने परोक्ष रूप से ठाकरे परिवार पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि हमने नगर निगम के काम में कभी हस्तक्षेप नहीं किया।

Horoscope 27 July 2022: आज इन राशियों पर रहेगी भगवान शंकर और गणेश जी कृपा, पढ़ें सभी राशियों का हाल

मात्र 2 घंटे में बिक गई सभी गाड़ियां, भारत में इस गाड़ी के दीवाने हुए लोग, धड़ाधड़ मिल रही बुकिंग

Sariya Rate Today:जानिए क्या है आज आपके शहर के सरिया सीमेंट गिट्टी के रेट

VASTU TIPS: वास्तु के अनुसार सफलता के राह में बाधा बनती है बेडरूम में रखी ये वस्तुए, आज ही फेके इन्हें घर के बहार…

निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments