जानलेवा गड्ढाः छतरपुर में बोर में गिरी एक साल की बच्ची

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

छतरपुर। मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के नौगांव थाना क्षेत्र के दौनी गांव में गुरुवार दोपहर करीब दो बजे बोरवेल में गिरी डेढ़ साल की दिव्यांशी कुशवाह जिंदगी की जंग जीत गई। लगभग दस घंटे तक बोरवेल में 15 फीट नीचे फंसी रही मासूम को सेना और प्रशासन ने देर रात तक चले संयुक्त रेस्क्यू अभियान में सुरक्षित निकाल लिया। बच्ची के स्वास्थ्य को देखते हुए उसे अस्पताल भेजा गया है। बच्ची के सकुशल बाहर आने पर सीएम शिवराज सिंह चाैहान ने भी प्रसन्नता व्यक्त करते हुए टिवट कर पुलिस, प्रशासन एवं सभी नागरिकाें काे बधाई दी है।

दाैनी गांव में रहने वाले राजेन्द्र कुशवाह की तीन बेटियां हैं जिसमें सबसे छोटी बेटी दिव्यांशी बोरवेल में गिर गई थी। बताया जाता है कि खेत पर सिंचाई के लिए खोदे गए बोरवेल से पानी नहीं निकला तो उसे ऐसा खुला छोड़ दिया गया था। इसी बोरवेल में दोपहर लगभग दो बजे मासूम दिव्यांशी गिर गई थी। सूचना मिलते ही कलेक्टर-एसपी के अलावा नजदीकी झांसी से सेना की एक टुकड़ी भी घटनास्थल पर पहुंच गई। बच्ची लगभग 15 फीट नीचे फंसी थी। उसके रोने की आवाज आ रही थी। पुलिस ने जेसीबी सहित अन्य उपकरण मंगवाकर बचाव कार्य शुरू करवा दिया। बच्ची को निकालने के लिए बोरवेल के समानांतर एक गड्ढा खोदा गया।

लगभग रात ग्यारह बजे रेस्क्यू अभियान में जुटे कर्मचारी बच्ची तक पहुंचने में कामयाब हुए। बच्ची में हलचल थी। इसलिए सावधानीपूर्वक मशीनों की बजाय हाथों से ही लगभग दो फीट की सुरंग से मिट्टी हटाई गई। देर रात तक कलेक्टर संदीप जेआर और एसपी सचिन शर्मा भी मौके पर अभियान पर नजर बनाए रहे। स्टेट डिजास्टर इमरजेंसी रिस्पांस फोर्स के दल को भी ग्वालियर से बुलवाया गया। रात 12 बजे के बाद बच्ची को निकाल लिया गया। मां रामसखी कुशवाह ने बताया कि खेत में बनीं झोपड़ी के पास ही दिव्यांशी अपनी बड़ी बहन माया उम्र छह वर्ष व नैनसी उम्र तीन साल के साथ खेल रही थी तभी बोरवेल में गिर गई।

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *