Cucumber : भारत ककड़ी और खीरे का सबसे बड़ा निर्यातक देश बना , 80 हजार रुपये प्रति एकड़ होती है आमदनी

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा बागवानी फसलों को बढ़ावा दिया जा रहा है, जिसके परिणाम स्वरुप देश ककड़ी और खीरे के निर्यात में दुनिया का सबसे बड़ा देश बनकर उभरा है। खीरे की दो श्रेणियों ककड़ी और खीरे के तहत निर्यात किया जाता है जिन्हें सिरका या एसिटिक एसिड के माध्यम से तैयार और संरक्षित किया जाता है। भारत ने अप्रैल-अक्टूबर (2020-21) के दौरान 114 मिलियन अमरीकी डालर के मूल्य के साथ 1,23,846 मीट्रिक टन ककड़ी और खीरे का निर्यात किया है।

भारत ने पिछले वित्तीय वर्ष में कृषि प्रसंस्कृत उत्पाद के निर्यात का 200 मिलियन अमरीकी डालर का आंकड़ा पार कर लिया है, इसे खीरे के अचार बनाने के तौर पर वैश्विक स्तर पर गेरकिंस या कॉर्निचन्स के रूप में जाना जाता है। 2020-21 में, भारत ने 223 मिलियन अमरीकी डालर के मूल्य के साथ 2,23,515 मीट्रिक टन ककड़ी और खीरे का निर्यात किया था।

भारत दुनिया में 15 प्रतिशत खीरे का उत्पादन करता है

पढ़े यह भी महत्वपूर्ण खबरें

इस दिन होगा भारत-PAK का महामुकाबला, टीम इंडिया के पास बदला लेने का मौका

60 साल आपकी आयु तो फिर मौज, हर महीना मिलेगी इतने हजार रुपये पेंशन

Hair Care Tips: करी पत्ता बालों में लगाने से होती हैं कई समस्याएं दूर, जानें इसके फायदे

E-Shram Card 2022:ई-श्रम कार्ड भत्ता कब और किस को मिलेगा यहां देखें,जल्द !

खीरे की खेती प्रसंस्करण और निर्यात की शुरूआत भारत में 1990 के दशक में कर्नाटक में एक छोटे से स्तर के साथ हुई थी और बाद में इसका शुभारंभ पड़ोसी राज्यों तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में भी हुआ। विश्व की खीरा आवश्यकता का लगभग 15% उत्पादन भारत में होता है।

वर्तमान में खीरे को 20 से अधिक देशों को निर्यात किया जाता है, जिसमें प्रमुख उत्तरी अमेरिका, यूरोपीय देश और महासागरीय देश जैसे संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, दक्षिण कोरिया, कनाडा, जापान, बेल्जियम, रूस, चीन, श्रीलंका और इजराइल हैं।

कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के तहत 65,000 एकड़ में होती है खीरे की खेती
खीरा उद्योग ग्रामीण रोजगार के सृजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। भारत में अनुबंध खेती के तहत लगभग 90,000 छोटे और सीमांत किसानों द्वारा 65,000 एकड़ के वार्षिक उत्पादन क्षेत्र के साथ खीरे की खेती की जाती है। प्रसंस्कृत खीरे को औद्योगिक कच्चे माल के रूप में और खाने के लिए तैयार करके जारों में थोक में निर्यात किया जाता है। थोक उत्पादन के मामले में एक उच्च प्रतिशत का अभी भी खीरा बाजार पर कब्जा है। भारत में ड्रम और रेडी-टू-ईट उपभोक्ता पैक में खीरा का उत्पादन और निर्यात करने वाली लगभग 51 प्रमुख कंपनियां हैं।

किसानों को होती है 80 हजार रुपये प्रति एकड़ की आय

देश में औसतन एक खीरा किसान प्रति फसल 4 मीट्रिक टन प्रति एकड़ का उत्पादन करता है और 40,000 रुपये की शुद्ध आय के साथ लगभग 80,000 रुपये कमाता है। खीरे में 90 दिन की फसल होती है और किसान वार्षिक रूप से दो फसल लेते हैं। विदेशी खरीदारों की आवश्यकता को पूरा करने के लिए अंतरराष्ट्रीय मानकों के प्रसंस्करण संयंत्र स्थापित किए गए हैं।

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *