IAS Renu Raj Success Story: अफसर बनने के लिए छोड़ दी डॉक्टरी, देश में हासिल की दूसरी रैंक

IAS,source by google

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

IAS Renu Raj Success Story: अफसर बनने के लिए छोड़ दी डॉक्टरी, देश में हासिल की दूसरी रैंक, पढ़िये सफलता की कहानी

रेनू राज (Renu Raj) बचपन से ही आईएएस अफसर बनना चाहती थी. जब वह एक सर्जन के रूप में काम कर रही थीं और तब आईएएस अधिकारी बनने का ठान लिया,

Newz Fast, New Delhi वह आम लोगों के लिए कुछ ऐसा करना चाहती थी जिससे उनकी जिंदगी आसान हो जाए. 

Success Story Of Dr. Renu Raj: केरल के कोट्टायम की रहने वाली रेनू राज (Renu Raj) ने डॉक्टरी छोड़कर पहले यूपीएससी एग्जाम (UPSC Exam) दिया और ऑल इंडिया रैंकिंग में दूसरा स्थान हासिल कर आईएएस अफसर बन गईं.

 हाल में एस्पिरेंट (Aspirant) नाम की एक वेबसीरीज आई थी, जिसमें यूपीएससी (UPSC) की तैयारी कर रहे तीन दोस्तों की कहानी दिखाई गई है. इस मौके पर हम आपको कुछ ऐसे ही लोगों की स्टोरी बता रहे हैं, जिन्होंने कई मुश्किलों का सामना कर यूपीएससी पास किया.

IAS,source by google

केरल की रहने वाली हैं रेनू राज

IAS,source by google

रेनू राज (Renu Raj) ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा केरल के कोट्टायम के सेंट टैरेसा हायर सेकेंडरी स्कूल से प्राप्त की और इसके बाद कोट्टायम के ही गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज से मेडिकल की पढ़ाई की. 

डॉक्टरी छोड़ दिया यूपीएससी एग्जाम

यूपीएससी पाठशाला की रिपोर्ट के अनुसार, रेनू राज (Renu Raj) ने डॉक्टरी के साथ साल 2014 में यूपीएससी एग्जाम (UPSC Exam) दिया और पहले अटेम्प्ट में दूसरी रैंक हासिल कर आईएएस अफसर बन गईं. रेनू के पिता एक सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी हैं और इनकी मां एक हाउस वाइफ हैं. रेनू की दोनों बहने और उनके पति पेशे से डॉक्टर हैं. 

IAS,source by google

बचपन से था आईएएस बनने का सपना

रेनू राज (Renu Raj) बचपन से ही आईएएस अफसर बनना चाहती थी. जब वह एक सर्जन के रूप में काम कर रही थीं और तब आईएएस अधिकारी बनने का ठान लिया, क्योंकि वह आम लोगों के लिए कुछ ऐसा करना चाहती थी जिससे उनकी जिंदगी आसान हो जाए. 

डॉक्टरी छोड़ क्यो दिया यूपीएससी एग्जाम?

रेनू राज (Renu Raj) ने इंटरव्यू में बताया था, ‘मेरे मन में ख्याल आया कि एक डॉक्‍टर होने के नाते वह 50 या 100 मरीजों की मदद कर सकती थी, लेकिन एक सिविल सेवा अधिकारी के नाते उसके एक फैसले से हजारों लोगों को लाभ मिलेगा. इसके बाद मैंने यूपीएससी का एग्जाम देने का फैसला किया.’

रेनू ने डॉक्टरी के साथ ऐसे की तैयारी

रेनू राज (Renu Raj) जब यूपीएससी टॉपर बनीं, तब भी एक डॉक्टर के रूप में काम कर रही थीं. रेनू बताती हैं कि 2013 से ही वह यूपीएससी परीक्षा के लिए हर रोज 3 -6 घंटे की पढ़ाई किया करती थीं.

डॉक्टरी की प्रैक्टिस के साथ ही उन्होंने छह-सात महीने तक ऐसा किया. इसके बाद उन्होंने फुल टाइम तैयारी करने का फैसला किया. हालांकि मेंस एग्जाम के बाद उन्होंनेफिर से डॉक्टरी प्रैक्टिस शुरू कर दी और इसके लिए उन्हें अपने पढ़ाई के घंटे तीन-चार घंटे कम करने पड़े, लेकिन इसका असर उन्होंने इसका असर तैयारी पर नहीं पड़ने दिया. 

ये भी पढ़ें –money transfer: गलत खाते में हो गया पैसा ट्रांसफर?तो बस करे ये आसान काम आ जायेगे आप के पैसे वापस, जानिए कैसे ?

Shilpi Raj MMS मामले में आया नया मोड़,जो भी देखा बोला हे राम! शिल्पी तुमसे ये उम्मीद नही थी

Shilpi raj viral Video: त्रिसाकर मधु से भी खतरनाक है Shilpi Raj का MMS, सोशल मीडिया यूजर्स तरह-तरह कर रहे कमेंट

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.