पुणे बना हादसों का शहर, 10 माह में 581 हादसे, गई 192 जानें

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

पुणे :  बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं के चलते पुणे हादसों का शहर बनता जा रहा है। जारी वर्ष के 10 माह में हादसों और उसमें मारे गए लोगों के आंकड़े चौंकाने वाले हैं। जनवरी से अक्टूबर तक के 10 माहों में पुणे (Pune) शहर में 581 सड़क हादसे दर्ज हुए हैं जिनमें 199 लोगों की मौत हुई है, जबकि 437 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। बढ़ते हादसों के लिए वाहनों की बढ़ती संख्या की तुलना में अपर्याप्त सड़कें, जगह- जगह जारी खुदाई और वाहनचालकों की अनुशासनहीनता जिम्मेदार बताई जा रही है।

शहर में वाहनों की बढ़ती संख्या, अपर्याप्त सड़कों और विभिन्न स्थानों पर चल रही खुदाई के कारण पिछले कुछ महीनों में छोटी मोटी दुर्घटनाओं के साथ-साथ घातक दुर्घटनाओं में भी वृद्धि हुई है। पिछले साल जनवरी से दिसंबर 2020 के बीच 482 हादसे हुए। हालांकि, इस साल 31 अक्टूबर तक ही 582 दुर्घटनाएं होने के कारण हादसों की संख्या में इजाफा हुआ है। इसमें 199 लोगों की मौत हुई है। इस साल शहर की सड़कों पर सबसे ज्यादा 18 से 35 साल के युवाओं की मौत (Death) हुई है। दुर्घटनाओं में होने वाली कुल मौतों में से लगभग 57 प्रतिशत इस आयु वर्ग में हैं।

अगर बात करें पूरे महाराष्ट्र राज्य की तो गत साल की तुलना में इस साल राज्य के सड़क हादसों में 25 फीसदी बढ़ोतरी नजर आती है। पिछले साल जनवरी से जून 2020 के बीच राज्य में कुल 11 हजार 481 हादसे दर्ज हुए। इस साल इसी मियाद में जनवरी से जून 2021 के बीच सड़क हादसों की संख्या 14 हजार 245 तक बढ़ गई है। हादसों की संख्या के साथ साथ उनमें मरनेवालों की संख्या में भी खासी बढ़ोतरी दर्ज हुई है। जहां पूरे राज्य में बीते साल सड़क हादसों में 5209 लोगों की मौत हुई वहीं इस साल यह आंकड़ा 6708 तक पहुंच गया है। इस साल हादसों में घायल हुए लोगों का आंकड़ा भी 10 हजार पार कर गया है।

तुलनात्मक आंकड़ों में हादसे

वर्ष 2019

हादसे 791

घायल 626

मृत्यू – 206

वर्ष 2020

हादसे 482

घायल 388

मौत 135

खबर अच्छी लगी हो तो निचे दिए गये बटन को दबाकर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *